हमारा अनुसरण करें : facebook twitter linkedin Instagram
REC Limited

मीडिया लाउंज

आरईसीपीडीसीएल ने पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड को स्पेशल पर्पज व्हीकल 'रामगढ़ II ट्रांसमिशन लिमिटेड' सौंपा
तारीख 27-10-2023

गुरुग्राम, 27 अक्टूबर 2023:  विद्युत मंत्रालय के तत्वावधान में सीपीएसई, एनबीएफसी महारत्न कंपनी आरईसी लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी कंपनी आरईसी पावर डेवलपमेंट एंड कंसल्टेंसी लिमिटेड (आरईसीपीडीसीएल) ने  26 अक्टूबर 2023 को ट्रांसमिशन प्रोजेक्ट अर्थात 'रामगढ़ II ट्रांसमिशन लिमिटेड' के निर्माण के लिए गठित परियोजना-विशिष्ट एसपीवी (स्पेशल पर्पज व्हीकल ) पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (पीजीसीआईएल) लिमिटेड को सौंपा।

मैसर्स पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड का चयन विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा अधिसूचित मानक बोली दस्तावेजों और दिशानिर्देशों के अनुरूप पारेषण सेवा प्रदाता के चयन के लिए आरईसीपीडीसीएल द्वारा आयोजित टैरिफ आधारित प्रतिस्पर्धी बोली (टीबीसीबी) के माध्यम से किया गया था।

इस एसपीवी का कार्य भारत सरकार की महत्वाकांक्षी 500 गीगावॉट की नवीकरणीय ऊर्जा योजना से जुड़ा है। इस कार्य में राजस्थान राज्य में 765 केवी डी/सी लाइन (रामगढ़ पीएस से भाड़ला-3 पीएस) के साथ-साथ रामगढ़ में 765/400 केवी और 2x500 एमवीए 400/220 केवी पूलिंग स्टेशन का कार्यान्वयन शामिल है। इस परियोजना को 18 महीने में लागू करने का लक्ष्य रखा गया है। कार्यान्वयन के बाद, यह राजस्थान राज्य के नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्रों (आरईजेड) से नवीकरणीय ऊर्जा बिजली की निकासी में मदद करेगा।

इस एसपीवी को आरईसीपीडीसीएल के मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री राजेश कुमार द्वारा पीजीसीआईएल के कार्यपालक निदेशक श्री पंकज पांडे को सीटीयूआईएल के कार्यपालक निदेशक श्री जसबीर सिंह; आरईसीपीडीसीएल के मुख्य महाप्रबंधक श्री पी.एस. हरिहरन और आरईसीपीडीसीएल, सीटीयूआईएल और पीजीसीआईएल के अन्य वरिष्ठ अधिकारी की उपस्थिति में सौंपा गया।

उपरोक्त एसपीवी को सौंपने के साथ-साथ, आरईसीपीडीसीएल ने अब तक लगभग 75,000 करोड़ रुपये की लागत वाले 54 ट्रांसमिशन प्रोजेक्ट्स को सफलतापूर्वक सौंपा हैं।

आरईसी लिमिटेड के बारे में: विद्युत मंत्रालय के अधीन 1969 में स्थापित महारत्न सीपीएसई आरईसी लिमिटेड बिजली-बुनियादी अवसरंचना क्षेत्र के लिए दीर्घकालिक ऋण और अन्य वित्तीय उत्पाद प्रदान करता है जिसमें उत्पादन, पारेषण, वितरण, नवीकरणीय ऊर्जा और इलेक्ट्रिक वाहन, बैटरी भंडारण, ग्रीन हाइड्रोजन आदि जैसी नई प्रौद्योगिकियां शामिल हैं। आरईसी सड़क, मेट्रो, हवाई अड्डे, आईटी, बंदरगाहों आदि सहित मुख्य बुनियादी अवसरंचना क्षेत्रों में भी विविधता लाया है। चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही को समाप्त आरईसी की लोन बुक 4.54 लाख करोड़ रुपये है।

पृष्ठ को अंतिम बार अद्यतन किया गया: 17/05/2024 - 10:26 PM
  • आगंतुकों की संख्या :