रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड

रूरल इलेक्ट्रीफिकेशन कारपोरेशन लिमिटेड
भारत सरकार का उद्यम
18जनवरी2017
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

संगठनात्मक गठन

आरईसी एक सार्वजनिक क्षेत्र का उद्यम है, जिसे कंपनी अधिनियम 1956 के तहत 25 जुलाई, 1969 को निगमित किया गया। आरईसी एक सूचीबद्ध, भारत सरकार का सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है, जिसका नेटवर्थ 31.03.2015 को रुपए 24,857.03 करोड़ है। इसका मुख्य उद्देश्य पूरे देश भर में ग्रामीण विद्युतीकरण परियोजनाओं को वित्तपोषित और बढ़ावा देना है। इसका कारपोरेट कार्यालय, नई दिल्ली में स्थित है और देश के विभिन्न राज्यों में पूर्ण स्टाफयुव्त 17 परियोजना कार्यालय हैं। इसके अतिरिव्त हैदराबाद में इसका एक प्रशिक्षण केंद्र अर्थात सेंट्रल इंस्टीच्यूट फॉर रूरल इलेक्ट्रीफिकेशन (सायर)है। मानव संसाधन विकास पर बल देने के उद्देश्य से, निगम अपने कार्यपालकों और गैर-कार्यपालकों को विभिन्न एजेंसियों तथा विदेशी प्रतिष्ठित संगठनों द्वारा आयोजित विशिष्ट प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रायोजित करता रहा है। 30.09.2015 की स्थिति के अनुसार निगम में 609 कर्मचारी(विभिन्न प्रभागों अर्थात इंजीनियरिंग, वित्तीय, अर्थशास्त्र और विशेषज्ञता वाले संवर्गो के 443 कार्यपालक तथा 166 गैर-कार्यपालक है), कार्यरत हैं।

कर्मचारियों के वेतन उच्च प्रतिस्पर्धात्मक है और कर्मचारियों को अनेक उदारतापूर्ण लाभ एवं परिलब्धियां दी जाती हैं। आरईसी ने कार्यनिष्पादन में विगत कई वर्षों से "उत्कृष्ट" रेटिंग अर्जित की है। हाल ही में, भारत के माननीय उप राष्ट्रपति द्वारा निगम को, देश के 10 सर्वोच्च सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों में एक होने का पुरस्कार प्रदान किया गया है।

नीचे दिए गए लिंक्स देखने के लिए क्लिक करें:

संगठनात्मक संरचना
प्रबंधक स्तर से ऊपर के अधिकारियों का संपर्क ब्यौरा